Time And Relative Dissertations In Space

Most analyses have tended to dwell on citations to journals, which are the most commonly cited form of literature in STEM fields, and understandably the locus of most collection development and funding attention in academic science and technology libraries.In collection management situations, the format and age of materials cited by local authors have also received attention (Ortega 2008).The University of Texas at Austin (UT Austin) is a large, R1 university with over 11,000 graduate students (out of 51,000 total students) and prominent graduate programs across all STEM fields.Its highly ranked chemistry and biochemistry programs award an average of 36 Ph D degrees per year.Graduate students have been required to submit electronic theses and dissertations (ETDs) to the Graduate School since 2004, and with few exceptions hardcopy dissertations are no longer added to the library's collection.Students upload their dissertations into the Vireo online system hosted by the Texas Digital Library (TDL) on behalf of the Graduate School.

The study sought to answer these questions: How often do chemistry graduate students cite books in their dissertations? How do the results compare to similar analyses at other institutions?For chemistry in particular, several citation analyses of dissertations are relevant to the present one.While they too focused primarily on citations to journals, they included summary data on the citations to monographic materials as well (Mubeen 1996; Gooden 2001; Vallmitjana & Sabaté 2008; Kayongo & Helm 2012; Zhang 2013; Gohain & Saikia 2014).A citation analysis of chemistry Ph D dissertations at the University of Texas at Austin yielded data on how often graduate students cite books in their bibliographies, and on the characteristics of the books cited, in terms of age and local ownership.The analysis examined samples of dissertations selected from five discrete years - 1988, 2006, 2009, 2012, and 2015 - in order to provide longitudinal data on how citation trends are changing during a transition period in libraries.What is not clear is whether these changes changing user needs, or are actually driving those changes.The aggregate usage of a library's book collection by graduate students can be analyzed through patron-type circulation statistics over time, but this approach is fairly one-dimensional.Citation analysis of Ph D dissertations offers a more granular approach to studying their actual use of literature.In STEM fields, most citation analysis has focused on use of the journal literature, which accounts for the bulk of citations and financial investment.Libraries at Ph D-granting institutions have spent significant resources on acquiring, storing, and maintaining local collections of monographic materials (commonly referred to as "books"), traditionally in print format but also more recently in digital formats.In the STEM fields, where peer-reviewed journal literature is regarded as the primary measure of academic success, libraries have rightly focused on maximizing access to journal content while treating other forms of literature as secondary.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One thought on “Time And Relative Dissertations In Space”

  1. समय, सफलता की कुंजी है। समय का चक्र अपनी गति से चल रहा है या यूं कहें कि भाग रहा है। अक्सर इधर-उधर कहीं न कहीं, किसी न किसी से ये सुनने को मिलता है कि क्या करें समय ही नही मिलता। वास्तव में हम निरंतर गतिमान समय के साथ कदम से कदम मिला कर चल ही नही पाते और पिछङ जाते हैं। समय जैसी मूल्यवान संपदा का भंडार होते हुए भी हम हमेशा उसकी कमी का रोना रोते रहते हैं क्योंकि हम इस अमूल्य समय को बिना सोचे समझे खर्च कर देते हैं। विकास की राह में समय की बरबादी ही सबसे बङा शत्रु है। एक बार हाँथ से निकला हुआ समय कभी वापस नही आता है। हमारा बहुमूल्य वर्तमान क्रमशः भूत बन जाता है जो कभी वापस नही आता। सत्य कहावत है कि बीता हुआ समय और बोले हुए शब्द कभी वापस नही आ सकते। कबीर दास जी ने कहा है कि, सच ही तो है मित्रों, किसी भी काम को कल पर नही टालना चाहिए क्योंकि आज का कल पर और कल का काम परसों पर टालने से काम अधिक हो जायेगा। बासी काम, बासी भोजन की तरह अरुचीकर हो जायेगा। समय जैसे बहुमूल्य धन को सोने-चाँदी की तरह रखा नही जा सकता क्योंकि समय तो गतिमान है। इस पर हमारा अधिकार तभी तक है जब हम इसका सदुपयोग करें अन्यथा ये नष्ट हो जाता है। समय का उपयोग धन के उपयोग से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि हम सभी की सुख-सुविधा इसी पर निर्भर है। चाणक्य के अनुसार- जो व्यक्ति जीवन में समय का ध्यान नही रखता, उसके हाँथ असफलता और पछतावा ही लगता है। समय जितना कीमती और वापस न मिलने वाला तत्व है उतना उसका महत्व हम लोग प्रायः नही समझते। परन्तु जो लोग इसके महत्व को समझते हैं वो विश्व पटल के इतिहास पर सदैव विद्यमान रहते हैं।ने गुलाम प्रथा के विरुद्ध आग उगलने वाली पुस्तक “टॉम काका की कुटिया” लिख दी जिसकी प्रशंसा आज भी बेजोड़ रचना के रूप में की जाती है।“कहने का आशय है कि प्रत्येक विकासशील एवं उन्नतशील लोगों में एक बात समान है- समय का सदुपयोग। समय का प्रबंधन प्रकृति से स्पष्ट समझा जा सकता है। समय का कालचक्र प्रकृति में नियमित है। दिन-रात, ऋतुओं का समय पर आना-जाना है । यदि कहीं भी अनियमितता होती है तो विनाष की लीला भी प्रकृति सीखा देती है। समय की उपेक्षा करने पर कई बार विजय का पासा पराजय में पलट जाता है। नेपोलियन ने आस्ट्रिया को इसलिए हरा दिया कि वहाँ के सैनिकों ने पाँच मिनट का विलंब कर दिया था, लेकिन वहीं कुछ ही मिनटो में नेपोलियन बंदी बना लिया गया क्योंकि उसका एक सेनापति कुछ विलंब से आया। वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन की पराजय का सबसे बङा कारण समय की अवहेलना ही थी। कहते हैं खोई दौलत फिर भी कमाई जा सकती है। भूली विद्या पुनः पाई जा सकती है किन्तु खोया हुआ समय पुनः वापस नही लाया जा सकता सिर्फ पश्चाताप ही शेष रह जाता है। समय के गर्भ में लक्ष्मी का अक्षय भंडार भरा हुआ है, किन्तु इसे वही पाते हैं जो इसका सही उपयोग करते हैं। जापान के नागरिक ऐसा ही करते हैं, वे छोटी मशीनों या खिलौनों के पुर्जों से अपने व्यावसायिक कार्य से फुरसत मिलने पर नियमित रूप से एक नया खिलौना या मशीनें बनाते हैं। इस कार्य से उन्हे अतिरिक्त धन की प्राप्ति होती है। उनकी खुशहाली का सबसे बङा कारण समय का सदुपयोग ही है। अर्थात, “जो मनुष्य वक्त का सदुपयोग करता है, एक क्षण भी बरबाद नही करता, वह बड़ा सौभाग्यवान होता है।“ समय तो उच्चतम शिखर पर पहुँचने की सीढी है। जीवन का महल समय की, घंटे-मिनटों की ईंट से बनता है। प्रकृति ने किसी को भी अमीर गरीब नही बनाया उसने अपनी बहुमुल्य संपदा यानि की चौबीस घंटे सभी को बराबर बांटे हैं। मनुष्य कितना ही परिश्रमी क्यों न हो परन्तु समय पर कार्य न करने से उसका श्रम व्यर्थ चला जाता है। वक्त पर न काटी गई फसल नष्ट हो जाती है। असमय बोया बीज बेकार चला जाता है। जीवन का प्रत्येक क्षण एक उज्जवल भविष्य की संभावना लेकर आता है। क्या पता जिस क्षण को हम व्यर्थ समझ कर बरबाद कर रहे हैं वही पल हमारे लिए सौभाग्य की सफलता का क्षण हो। आने वाला पल तो आकाश कुसुम की तरह है इसकी खुशबु से स्वयं को सराबोर कर लेना चाहिए। फ्रैंकलिन ने कहा है – समय बरबाद मत करो, क्योंकि समय से ही जीवन बना है। ये कहना अतिशयोक्ति न होगी कि, वक्त और सागर की लहरें किसी की प्रतिक्षा नही करती। हमारा कर्तव्य है कि हम समय का पूरा-पूरा उपयोग करें। धन्यवाद !